Header Ads

Header ADS

आचार संहिता के चलते ज्वाइनिंग की प्रतीक्षा कर रहे पीजीटी, टीजीटी अध्यापकों को निर्वाचन आयोग की हरी झंडी



चंडीगढ़, 
01 अप्रैल, 2019

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग द्वारा चयनित वो पीजीटी व टीजीटी अध्यापक जिन्हे 6 मार्च और 9 मार्च को नियुक्ति पत्र जारी कर दिये थे, लेकिन 10 मार्च को लोकसभा आम चुनाव 2019 की घोषणा होने के साथ ही लागू आचार संहिता के कारण ज्वाइन नहीं कर पाए थे, उनके लिए अच्छी खबर है कि भारत निर्वाचन आयोग ने ज्वाइनिंग की प्रतिक्षा कर रहे ऐसे पीजीटी (गणित/भूगोल) व टीजीटी (गृह विज्ञान) को ज्वाइन करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

हरियाणा के संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ इन्द्रजीत ने बताया कि मुख्य सचिव डीएस ढेसी की अध्यक्षता में गठित स्क्रीनिंग कमेटी के समक्ष यह मामला आया था कि आचार संहिता लागू होने की वजह से नियुक्ति पत्र प्राप्त कर चुके कुछ  व टीजीटी अध्यापक ज्वाइन नहीं कर पाए थे। इसलिए इस मामले को भारत निर्वाचन आयोग के पास भेजा गया था और आज आयोग ने इन अध्यापकों की ज्वाइनिंग को मंजूरी दे दी है और अब ये उम्मीदवार भी अपने संबंधित स्टेशन या स्कूलों में ज्वाइन कर सकते हैं। 

उन्होंने बताया कि आयोग ने स्कूल शिक्षा विभाग को नवनियुक्त उम्मीदवारों के ज्वाइन करने के कारण कार्यभार और पद रिक्ति के अनुसार समायोजित करने के लिए भी मंजूरी प्रदान कर दी है।
     
उन्होंने यह भी बताया कि स्कूल शिक्षा विभाग के कुछ अन्य विषय भी स्क्रीनिंग कमेटी के समक्ष प्रस्तुत किये गए, जिन्हें भी भारत निर्वाचन आयोग के पास अंतिम निर्णय के लिए भेजा गया था। उन्होंने बताया कि स्कूल ‌शिक्षा विभाग द्वारा प्राप्त प्रस्ताव जिसमें स्कूलों में सूचना और संचार प्रौद्योगिकी योजना (आईसीटी) भारत सरकार की योजना के तहत सर्विस एजेंसी के माध्यम से रखे गए कंप्यूटर स्टाफ और कंप्यूटर लैब अटेंडेंट के कार्य अवधि को आउटसोर्स पॉलिसी के अनुसार 1 अप्रैल 2019 से 31 मार्च 2020 तक बढ़ाने और कंप्यूटर स्टाफ और कंप्यूटर लैब अटेंडेंट के वेतन को क्रमश 10 हजार से 15 हजार तथा 6 हजार से 9 हजार रुपये महीना बढ़ाने को भी निर्वाचन आयोग ने मंजूरी दे दी है।

No comments

Powered by Blogger.